क्या विलुप्त हुए जानवर वापस आ सकते हैं? De-extinction क्या है, इस पर क्यो हो रहा विरोध?

कुछ समय पहले पशु-पक्षियों पर केंद्रित एक मशहूर ग्रुप ने एक सर्वे किया था. उन्होंने लोगों से उन जानवरों के नाम बताने को कहा जिन्हें वे पृथ्वी पर दोबारा देखना चाहते हैं। यही वह समय था जब “De-extinction” शब्द लोकप्रिय हुआ। कुछ वैज्ञानिक अब उन जानवरों को पुनर्जीवित करने के लिए काम कर रहे हैं जो पिछली गलतियों के कारण गायब हो गए, यह सोचकर कि जो हुआ उसकी भरपाई करने का यह एक तरीका है।

विलुप्तीकरण क्या होता है?

विलुप्ति तब होती है जब किसी प्रजाति का आखिरी सदस्य भी दुनिया से चला जाता है। लेकिन उससे पहले जानवरों को लुप्तप्राय या गंभीर रूप से संकटग्रस्त जैसे समूहों में रखा जाता है। जब कोई प्रजाति गंभीर रूप से खतरे में होती है, तो इसका मतलब है कि उनमें से कुछ ही बचे हैं, और अगर हम सावधान नहीं हैं, तो वे पूरी तरह से गायब हो सकते हैं।

डोडो कब विलुप्त हुआ?

जैविक विविधता पर संयुक्त राष्ट्र कन्वेंशन में पाया गया कि दुनिया भर में हर दिन 150 से अधिक प्रजातियाँ गायब हो रही हैं। उनमें से एक डोडो है, जो 17वीं शताब्दी में लुप्त हो गया क्योंकि लोग उनके स्वादिष्ट मांस के लिए उनका शिकार करते थे। आखिरी डोडो पक्षी 1681 में मॉरीशस में देखा गया था और अब हम उनके अवशेष केवल संग्रहालयों में ही देख सकते हैं।

गैर-विलुप्तीकरण क्या होता है?

यह बिल्कुल नया है. पहले इसके लिए कोई शब्द नहीं था. वैज्ञानिक लुप्त हो चुकी प्रजातियों को वापस लाने के लिए काम कर रहे हैं। डोडो पक्षी एक प्रमुख फोकस है। 2002 में, उन्होंने डोडो से विशेष DNA (जिसे MTDNA कहा जाता है) को सफलतापूर्वक बचाया, जो मां से बच्चे में स्थानांतरित होता है। इस पर गौर करने पर उन्हें पता चला कि उनका सबसे करीबी रिश्तेदार निकोबारी कबूतर है। अब, वे इस कबूतर का आगे अध्ययन कर रहे हैं। 

SPACE> सूर्य पर एक विशाल छेद, जो पृथ्वी से 60 गुना चौड़ा है, हमारी ओर अत्यधिक तेज़ गर्म सौर तरंगें भेज रहा है।

डोडो कैसे वापस आ सकते है?

वैज्ञानिक जीन तकनीक का इस्तेमाल कर कबूतरों के जीन में बदलाव कर उन्हें डोडो पक्षी में बदलना चाहते हैं।

-जीन को संपादित करके वैज्ञानिक विशेष कोशिकाएँ बना सकते हैं और उन्हें विभिन्न पक्षियों के अंडों में रख सकते हैं। इससे डोडो जैसा दिखने वाला एक शिशु पक्षी पैदा हो सकता है।

-हालाँकि ऐसी संभावना है कि सभी प्रयास सफल नहीं होंगे, वैज्ञानिक अभी भी जीन संपादन पर काम कर रहे हैं।

क्यों हो रहा है इसका विरोध?

-इन प्रजातियों के लुप्त होने के बाद से जलवायु में बहुत बदलाव आया है। यदि हम उन्हें अभी वापस लाते हैं, तो नई परिस्थितियों के कारण वे जीवित नहीं रह पाएंगे।

-कुछ प्रजातियाँ लगभग ख़त्म हो चुकी हैं, और जीन विशेषज्ञ उन्हें प्राथमिकता के तौर पर बचाने का सुझाव देते हैं।

-यदि हम डोडो को वापस लाने के लिए जीन संपादन का उपयोग करते हैं, तो संशोधित जीन वाले पक्षियों को परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

-यदि किसी को विश्वास है कि वे किसी समस्या का समाधान कर सकते हैं, तो वे लापरवाही से कार्य कर सकते हैं और नुकसान पहुंचा सकते हैं।

कुछ सालों में खत्म हुई बहुत सारी प्रजातियां 

लुप्त हुए जानवरों पर चर्चा करते हुए, विश्व वन्यजीव कोष (WWF) ने पाया कि 1970 और 2014 के बीच, 60% से अधिक स्तनधारी, पक्षी, मछलियाँ और सरीसृप विलुप्त हो गए हैं। यह सिर्फ मांस खाने के बारे में नहीं है – जंगलों की कटाई और प्रदूषण भी इसका कारण बन रहे हैं। अध्ययन में 59 विशेषज्ञ शामिल थे जो सोचते हैं कि अगर जानवरों के बजाय इंसान गायब हो गए, तो उत्तर और दक्षिण अमेरिका, अफ्रीका, यूरोप और चीन पूरी तरह से खाली हो जाएंगे।

क्या होता है De-extinction?

De-extinction विभिन्न वैज्ञानिक तकनीकों, जैसे क्लोनिंग या जेनेटिक इंजीनियरिंग का उपयोग करके विलुप्त प्रजातियों को पुनर्जीवित या पुन: बनाने की प्रक्रिया है।

कभी इसे केवल विज्ञान कथाओं में ही समझा जाता था, लेकिन विलुप्त जानवरों को वापस लाना विज्ञान में एक गंभीर विषय बन गया है। चाहे वह मैमथ हो, यात्री कबूतर हो, या प्रसिद्ध डोडो पक्षी हो, इस विचार ने बहुत उत्साह और असहमति पैदा की है। यह लेख इस बात पर गौर करता है कि वैज्ञानिक इसे कैसे करने की योजना बनाते हैं, इसमें क्या नैतिक प्रश्न शामिल हैं और पर्यावरण के लिए इसका क्या अर्थ हो सकता है।

कितने Scientific Methods से De-extinction हो सकता है?

  1. Cloning: विलुप्त जानवरों को वापस लाने का एक तरीका cloning का सुझाया गया है। इसका मतलब है जानवर की आनुवंशिक सामग्री की नकल करके उसकी एक प्रति बनाने की कोशिश करना। लेकिन यह आसान नहीं है क्योंकि अक्षुण्ण DNA प्राप्त करना और पूरे जानवरों की cloning करना बड़ी चुनौतियाँ हैं।
  2. Genetic Engineering: विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने का दूसरा तरीका genetic engineering है। वैज्ञानिक विलुप्त जानवरों के लक्षण दिखाने के लिए समान जीवित जानवरों के DNA को बदल सकते हैं। हालाँकि यह विधि आशाजनक है, यह लोगों को अनपेक्षित समस्याओं और पर्यावरण को होने वाले नुकसान के बारे में चिंतित भी करती है।
  3. CRISPR Technology: अद्भुत CRISPR-Cas9 जीन-संपादन उपकरण ने विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने की नई संभावनाएँ पैदा की हैं। यह वैज्ञानिकों को जीन में सटीक परिवर्तन करने की सुविधा देता है, जिसका अर्थ समान जीवित प्राणियों के DNA को समायोजित करके विलुप्त जानवरों को फिर से बनाना हो सकता है।

ALIEN> डायनासोर के समय में पृथ्वी एलियंस की पसंदीदा जगह क्यों थी?

क्या है इसकी नैतिक प्रतिपूर्ति?

  1. Playing “Nature’s Creator”: विलुप्त प्रजातियों को वापस लाना “प्रकृति के निर्माता” की तरह काम करने वाले लोगों पर सवाल उठाता है। कुछ लोगों को चिंता है कि चीजों के प्राकृतिक तरीके से खिलवाड़ करना नैतिक रूप से गलत है और पर्यावरण की देखभाल करने के हमारे कर्तव्य को चुनौती देता है।
  2. Conservation vs. Novelty: विलुप्तीकरण का समर्थन करने वाले लोगों का कहना है कि विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने से संरक्षण में मदद मिल सकती है, खासकर उन प्रजातियों के लिए जो उनके पारिस्थितिक तंत्र में महत्वपूर्ण थीं। हालाँकि, दूसरों को आश्चर्य होता है कि क्या हमें अतीत से जीवित प्रजातियों को वापस लाने के बजाय उन प्रजातियों की रक्षा पर अधिक ध्यान केंद्रित करना चाहिए जो अभी भी जीवित हैं।
  3. Unintended Consequences: विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने से आज के पारिस्थितिकी तंत्र में अप्रत्याशित समस्याएं पैदा हो सकती हैं। शिकारी और शिकार कैसे परस्पर क्रिया करते हैं, संसाधनों के लिए प्रतिस्पर्धा और बीमारियाँ फैलने की संभावना जैसी चीज़ें ऐसे जोखिम हैं जिन पर सावधानीपूर्वक विचार करने की आवश्यकता है।

कौन से De-extinction projects है?

  1. The Mammoth Revival: वैज्ञानिक विलुप्तीकरण परियोजनाओं में ऊनी मैमथ को वापस लाने के बारे में बहुत चर्चा कर रहे हैं। वे आर्कटिक पारिस्थितिकी तंत्र को ठीक करके जलवायु परिवर्तन से लड़ने में मदद करने के लिए इस पुरानी प्रजाति को वापस लाने के विचार पर विचार कर रहे हैं।
  2. The Passenger Pigeon Project: यात्री कबूतर, जो अरबों की संख्या में हुआ करता था, लोगों की हरकतों के कारण गायब हो गया। अब, वैज्ञानिक इस प्रजाति को दोबारा बनाने और इसे जंगल में छोड़ने के लिए genetic engineering का उपयोग करने के बारे में सोच रहे हैं।
  3. The Dodo Dilemma: डोडो पक्षी, जिसे 17वीं शताब्दी से विलुप्त माना जाता है, विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने की चर्चा में एक बड़ा विषय है। लोग संरक्षित अवशेषों से इसका DNA प्राप्त करने और उसका अध्ययन करने का प्रयास कर रहे हैं, जिससे इस बात पर चर्चा छिड़ गई है कि क्या यह संभव है और क्या ऐसा करना सही है।

De-extinction से हमारे environment  को क्या लाभ है?

  1. Ecosystem Stability: विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने से प्रकृति में महत्वपूर्ण भूमिकाएँ वापस लाने में मदद मिल सकती है। लेकिन इन पुनर्जीवित प्रजातियों को वापस रखने से मौजूदा संतुलन भी गड़बड़ा सकता है और अप्रत्याशित समस्याएं पैदा हो सकती हैं।
  2. Climate Change Mitigation: कुछ लोगों का कहना है कि विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने से जलवायु परिवर्तन से लड़ा जा सकता है। जैसे, अगर हम मैमथ जैसे बड़े पौधे खाने वाले जानवरों को वापस लाते हैं, तो इससे घास के मैदानों को स्वस्थ रखने, कार्बन को रोकने और बर्फीले क्षेत्रों में जमीन को पिघलने से रोकने में मदद मिल सकती है।
डोडो
विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने को लेकर लोगों की अलग-अलग राय है।

De-extinction पे जनता का क्या कहना है?

  1. Public Attitudes: विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने को लेकर लोगों की अलग-अलग राय है। कुछ लोग इसे अच्छा मानते हैं और विज्ञान में एक नई उपलब्धि मानते हैं, जबकि अन्य इस बात को लेकर चिंतित हैं कि क्या यह सही है और इसके संभावित खतरे क्या हैं।
  2. Regulatory Frameworks: जैसे-जैसे वैज्ञानिक विलुप्त होने के बारे में और अधिक अध्ययन कर रहे हैं, यह स्पष्ट है कि हमें मजबूत नियमों की आवश्यकता है। इन नियमों में प्रकृति के खतरों, जानवरों के साथ कैसा व्यवहार किया जाता है और इसमें जनता को शामिल किया जाना चाहिए। यह विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने की चुनौतियों से निपटने के लिए एक मार्गदर्शक की तरह है।

De-extinction के क्या फायदे है और क्या नुकसान?

De-extinction के फायदेDe-extinction के नुकसान
Biodiversity Restoration: लुप्त हो चुके जानवरों को पुनर्जीवित करने से विभिन्न प्रकार की जीवित चीजों को वापस लाने में मदद मिल सकती है, जो प्रकृति के लिए अच्छा है। यह उन कार्यों को बदलने में मदद करता है जो ये जानवर पर्यावरण में करते थे।Ecological Disruption: गायब हुए जानवरों को वापस लाने से प्रकृति में अब काम करने का तरीका गड़बड़ा सकता है। इससे कौन क्या खाता है में बदलाव, संसाधनों के लिए अधिक लड़ाई और बीमारियों के फैलने की अधिक संभावना जैसी समस्याएं हो सकती हैं।
Conservation of Ecosystem Functions: गायब हुए जानवरों को वापस लाना प्रकृति में महत्वपूर्ण कार्यों को बनाए रखने में सहायक हो सकता है, जैसे पौधों को बीज बनाने में मदद करना, चारों ओर बीज फैलाना और जानवरों की दुनिया में कौन खाता है, इसे संतुलित करना।Ethical Concerns: जब लोग जानवरों को वापस लाकर “प्रकृति के निर्माता” की तरह बनने की कोशिश करते हैं, तो यह हमें आश्चर्यचकित करता है कि क्या यह सही है और क्या हो सकता है। जब हम कुछ समय के लिए विलुप्त हो चुकी प्रजातियों को वापस लाते हैं तो यह जिम्मेदार होने और संभावित परिणामों के बारे में सवाल उठाता है।
Scientific Knowledge: विलुप्त जानवरों को वापस लाने से वैज्ञानिकों को उनके जीन, व्यवहार और वे कैसे रहते थे, इसके बारे में अधिक अध्ययन करने में मदद मिलती है। इससे हमें विज्ञान के बारे में और अधिक जानने में मदद मिलती है।Resource Allocation: विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने के लिए बहुत अधिक धन और लोगों की आवश्यकता होती है। कुछ लोगों का कहना है कि हमें इन संसाधनों का उपयोग अन्य जानवरों की मदद करने के लिए करना चाहिए जो अभी जीवित हैं या वर्तमान पर्यावरणीय समस्याओं को हल करने के लिए।
Climate Change Mitigation: कुछ लोगों का कहना है कि मैमथ जैसे कुछ जानवरों को वापस लाने से जलवायु परिवर्तन से लड़ने में मदद मिल सकती है जो अब आसपास नहीं हैं। वे पौधों के बढ़ने के तरीके को प्रभावित कर सकते हैं, कार्बन का भंडारण कर सकते हैं और वास्तव में ठंडे क्षेत्रों में जमीन को पिघलने से रोक सकते हैं।Unpredictable Outcomes: हम निश्चित नहीं हो सकते कि यदि हम गायब हुए जानवरों को वापस लाएंगे तो भविष्य में क्या होगा। ऐसी संभावना है कि इससे प्रकृति, समाज या अर्थव्यवस्था में अप्रत्याशित समस्याएं पैदा हो सकती हैं, और ये समस्याएं ठीक नहीं हो सकती हैं।
Focus on Extant Species: कुछ लोगों का कहना है कि हमें उन प्रजातियों को वापस लाने की कोशिश करने के बजाय उन जानवरों और पौधों की देखभाल और सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए जो अब हमारे आसपास नहीं हैं।
संक्षेप में कहें तो, विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने के अच्छे और बुरे दोनों पक्ष हैं, और हमें इस बारे में ध्यान से सोचने की ज़रूरत है कि यह प्रकृति को कैसे प्रभावित करता है, क्या सही है और क्या व्यावहारिक है। अच्छे विज्ञान विचारों और पर्यावरण की अच्छी देखभाल के बीच सही संतुलन ढूंढना अभी भी कुछ ऐसा है जिस पर हम काम कर रहे हैं।

इस लेख का निष्कर्ष क्या है?

विलुप्त प्रजातियों को वापस लाना वह जगह है जहां विज्ञान, नैतिकता और पर्यावरण मिलते हैं। यह रोमांचक है, लेकिन यह हमें यह सोचने पर भी मजबूर करता है कि मनुष्य प्रकृति को कैसे आकार देते हैं। जैसे-जैसे वैज्ञानिक और अधिक सीखते हैं, विलुप्त प्रजातियों को वापस लाने के इस नए क्षेत्र को जिम्मेदारी से संभालने के लिए खुलकर बात करना, एक साथ काम करना और स्मार्ट नियम बनाना महत्वपूर्ण है।

आशा करते है कि आप को यह लेख पसंद आया होगा और आपके बहुत सारे सवालों के जवाब भी मिल गए होगें यदि आपको और कुछ भी पूछना है तो कमेन्ट करके हमे अवश्य बताएं हम आपके सवालों का जवाब ज़रूर देंगे।

और इस वेबसाइट का नोटिफिकेशन आन कर लीजिये ताकि आपको सबसे पहले लेख व वेबस्टोरी की नोटिफिकेशन मिल सकें।

नोटिफिकेशन आन करने का तरीका: सीधे हाथ की तरफ नीचे देखिये लाल रंग की घंटी दिख रही होगी उसको सिर्फ एक बार टच कर दीजिए नोटिफिकेशन आन हो जाएंगी। आपको लिख कर भी देगा “subscribe to notifications”

धन्यवाद!

यदि आप ऐशिया मे रहते है, आपको हिंदी भाषा आती है और आप चाहते है कि हिंदी भाषा मे सच्ची नयूज़ देखना हो तो आप हमारा “यूट्यूब चैनल” सब्सक्राइब कर लीजिये।

हमारी लिंक यह है – Click Here

कुछ यूट्यूब की विडियोज़ के लिंक-

More Read

My name is Uzaif and I am 23 years old. I live in India. This website is related to entertainment, news, advice, current affairs etc. My aim is to give more entertainment and knowledge to my audience. This website was established by Uzaif Kevin in the year 2022.

Leave a Comment

रिलायंस जियो का न्यू ईयर 2024 प्लान देखकर उपभोक्ता मे खुशी का माहौल सूर्य पर विशाल छेद हमारी ओर गर्म सौर तरंग भेज रहा है नासा ने मंगल मिशन से तोड़ा संपर्क- विज्ञान फेल अंतरिक्ष मे Sagittarius A नामक ब्लैक होल तेज़ी से घूम रहा है- स्पेस टाइम से खिलवाड़ नासा के पास आया करोड़ों मील दूर अंतरिक्ष रहस्यों से लेजर लाइट मैसेज, जानिए क्या?