सूर्य पर एक विशाल छेद, जो पृथ्वी से 60 गुना चौड़ा है, हमारी ओर अत्यधिक तेज़ गर्म सौर तरंगें भेज रहा है।

वैज्ञानिकों ने 2 दिसंबर, 2023 को सूर्य के भूमध्य रेखा पर एक बड़ा अंतर खोजा। केवल एक दिन में, यह वास्तव में तेजी से बढ़ा और 800,000 किलोमीटर चौड़ा हो गया। यह इतना चौड़ा है कि इसमें 60 पृथ्वियाँ समा सकती हैं! भले ही यह अस्थायी है, वैज्ञानिक इस बात से आश्चर्यचकित और चिंतित हैं कि यह कितनी जल्दी सामने आया।

एक बड़ा अंतरिक्ष अंतराल जिसे कोरोनल होल कहा जाता है, बहुत अधिक हानिकारक विकिरण छोड़ रहा है, और यह तेजी से पृथ्वी की ओर बढ़ रहा है। यह 24 घंटे पहले बड़ा होना शुरू हुआ, और अब, 4 दिसंबर को, यह सीधे पृथ्वी की ओर इशारा कर रहा है।

कोरोनल होल तब होते हैं जब सूर्य का चुंबकीय क्षेत्र टूट जाता है, जिससे एक डार्क होल बनता है। इससे सूर्य की सतह पर गर्म हीलियम अस्थायी रूप से दूर चली जाती है। यह अंतर वास्तव में तेज़ और मजबूत विकिरण छोड़ता है।

क्या होता है सनस्पॉट?

सूर्य की चमकदार सतह पर काले धब्बे होते हैं जिन्हें सनस्पॉट के नाम से जाना जाता है, लेकिन आप उन्हें अपनी नग्न आँखों से नहीं देख सकते हैं। उन्हें पहचानने के लिए आपको पराबैंगनी प्रकाश की आवश्यकता होती है। इन काले धब्बों से निकलने वाला विकिरण नियमित सौर हवा की तुलना में बहुत तेज़ चलता है।

इसकी वजह से पृथ्वी पर रेडियो ब्लैकआउट हो सकता है

इस साल मार्च में इस तरह का एक छेद बना और उससे निकलने वाला विकिरण पृथ्वी तक पहुंच गया, जिससे छह साल में सबसे खराब भू-चुंबकीय तूफान आया। इस छेद से G2 स्तर का एक और तूफान आ सकता है, जिससे आने वाले दिनों में पृथ्वी पर रेडियो ब्लैकआउट हो सकता है या ध्रुवों पर उत्तरी रोशनी दिखाई दे सकती है।

सूर्य छिद्र और कितने दिन रहेगा यह वैज्ञानिक भी नही जानतें पर!

हम नहीं जानते कि यह सूर्य छिद्र कितने समय तक रहेगा, लेकिन अंतिम सूर्य छिद्र 27 दिनों तक चला। नासा को लगता है कि यह जल्द ही पृथ्वी से दूर चला जाएगा, जो हमारे लिए अच्छी खबर है।

सूर्य पर एक विशाल छेद के रहस्यों का खुलासा?

केंद्र में सूर्य के साथ हमारा सौर मंडल, कभी-कभी आश्चर्यजनक चीजें दिखाता है जो वैज्ञानिकों और आकाश को देखने के शौकीन लोगों को आश्चर्यचकित कर देता है। हाल ही में, खगोलविदों को सूर्य की सतह पर दिखाई देने वाले एक बड़े छेद में रुचि हो गई।

कैसे हुई Solar Abyss की खोज?

एक दिन, जब खगोलविदों ने सूर्य की ओर देखा, तो उन्हें कुछ असामान्य चीज़ मिली – एक विशाल छेद। इसे कोरोनल होल कहा जाना कोई नई बात नहीं है, लेकिन इस होल के आकार और शक्ति ने वैज्ञानिकों को आश्चर्यचकित कर दिया, जिससे वे इसके रहस्यों को जानने के लिए उत्सुक हो गए।

कल्पना से परे आयाम-

यह ब्रह्मांडीय छेद अविश्वसनीय रूप से विशाल है, जो 800,000 किलोमीटर तक फैला हुआ है। यह हमारी पृथ्वी से बहुत बड़ा है, इसमें 60 पृथ्वियाँ समा सकती हैं। इसे एक विशाल अंधेरी जगह, उज्ज्वल सौर गतिविधि के बीच एक रहस्यमय पोर्टल की तरह चित्रित करें।

सौर हवाएँ कैसे नाच रही हैं?

इस बड़े अंतरिक्ष अंतराल को जो दिलचस्प बनाता है वह यह है कि यह लगातार बहुत तेज़ सौर तरंगें छोड़ रहा है। तेज़ विकिरण ले जाने वाली ये तरंगें इतनी तेज़ी से पृथ्वी की ओर बढ़ती हैं कि यह सूर्य के व्यवहार के बारे में हमारी जानकारी को चुनौती देती है। इस सौर गतिविधि के प्रभाव से हमें आश्चर्य होता है कि यह हमारे ग्रह को कैसे प्रभावित कर सकता है।

FINANCE> Leonardo Da Vinci की किताब 400 करोड़ रुपये में क्यों बिकी: रहस्य से पर्दा

हमारी धरती अब सौर तरंगों के रास्ते में है

अंतरिक्ष में शांति से तैरती हमारी पृथ्वी अब इन शक्तिशाली सौर तरंगों के रास्ते में है। हमें ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि पहले भी इसी तरह की सौर घटनाएं पृथ्वी पर भू-चुंबकीय तूफानों का कारण बन चुकी हैं। जब ये तूफान आते हैं, तो वे ध्रुवीय आकाश में सुंदर ध्रुवीय रोशनी पैदा कर सकते हैं, लेकिन संचार प्रणालियों में भी गड़बड़ी कर सकते हैं।

सूर्य हमेशा अपने Canvas मे बदलाव करते रहता है?

याद रखें, सूर्य की सतह पर मौजूद छेद, जिन्हें कोरोनल होल कहा जाता है, हमेशा के लिए बने नहीं रहते हैं। क्योंकि सूर्य हमेशा बदलता रहता है, ये खाली स्थान दिखाई दे सकते हैं और गायब हो सकते हैं, जिससे सूर्य के व्यवहार पर असर पड़ता है। पिछली बार जब हमने इस तरह का एक छेद देखा था, तो यह 27 दिनों तक रुका था, जिससे पता चलता है कि ये ब्रह्मांडीय आश्चर्य कैसे आते और जाते हैं।

नासा ने कैसी भविष्यवाणी की है?
उन्हें उम्मीद है कि यह अंतरिक्ष अंतराल पृथ्वी के सीधे रास्ते से दूर चला जाएगा।

नासा ने कैसी भविष्यवाणी की है?

वैज्ञानिक सूर्य पर इस विशाल छेद के रहस्यों की खोज कर रहे हैं, और नासा इस पर नज़र रखने और यह अनुमान लगाने में महत्वपूर्ण है कि यह क्या कर सकता है। भले ही हम निश्चित नहीं हैं कि यह सौर विषमता कितने समय तक रहेगी, नासा के अनुमान हमें थोड़ी आशा देते हैं। उन्हें उम्मीद है कि यह अंतरिक्ष अंतराल पृथ्वी के सीधे रास्ते से दूर चला जाएगा। यदि ऐसा होता है, तो यह सौर तरंगों के प्रत्यक्ष प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है, जिससे हमारे ग्रह को कम से कम कुछ समय के लिए आराम मिल सकता है।

सूर्य पर इस विशाल छेद की अप्रत्याशित उपस्थिति ने दुनिया भर के वैज्ञानिकों को आश्चर्यचकित और दिलचस्पी दिखाई है। हमारे सौर मंडल की निरंतर बदलती प्रकृति हमें आश्चर्यचकित करती रहती है, जटिल और सुंदर ब्रह्मांड को उजागर करती है। अब, कार्य सूर्य पर इस विशाल छेद के भीतर छिपे रहस्यों को खोजना है।

दुनिया भर के खगोलविद और वैज्ञानिक अब सूर्य में इस बड़े छेद पर अपना ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और ब्रह्मांडीय रहस्यों को उजागर करने की कोशिश कर रहे हैं। वे जो जानकारी इकट्ठा करते हैं और इसका अध्ययन करके जो चीजें सीखते हैं, उससे हमें यह समझने में मदद मिलेगी कि सूर्य कैसे काम करता है। यह पृथ्वी पर सौर गतिविधि के प्रभावों की भविष्यवाणी करने और उन्हें कम करने की हमारी क्षमता में भी सुधार कर सकता है।

इस लेख का निष्कर्ष क्या है?

संक्षेप में, सूर्य पर बड़ा छेद दर्शाता है कि हमारा सौर मंडल हमेशा कैसे बदलता रहता है। इसका विशाल आकार और ऊर्जा का शक्तिशाली विस्फोट हमारी कल्पना को आकर्षित करता है और हमें अंतरिक्ष का पता लगाने के लिए आमंत्रित करता है। जैसे-जैसे वैज्ञानिक इस ब्रह्मांडीय अंतराल का अध्ययन करते रहते हैं, हमें ब्रह्मांड में अंतहीन आश्चर्यों और हमारे चल रहे मिशन की याद आती है कि आकाशीय पिंड ब्रह्मांडीय नृत्य में कैसे चलते हैं।

F.A.Q.

क्या कोरोनल होल का इंसानों पर असर होता है?

सूर्य पर छिद्र, जिन्हें कोरोनल होल कहा जाता है, आमतौर पर लोगों को सीधे प्रभावित नहीं करते हैं। लेकिन वे पृथ्वी पर तूफान ला सकते हैं, जिससे उपग्रह और पावर ग्रिड जैसी चीज़ें प्रभावित हो सकती हैं।

क्या कोरोनल छिद्र खतरनाक हैं?

सूर्य पर कोरोनल छिद्र अपने आप में हानिकारक नहीं हैं, लेकिन उनके कारण होने वाले सौर तूफान पृथ्वी की प्रौद्योगिकियों, जैसे उपग्रहों और पावर ग्रिडों को प्रभावित कर सकते हैं, जो जोखिम भरा हो सकता है।

कोरोनल होल vs सनस्पॉट

कोरोनल होल सूर्य पर एक ऐसा स्थान है जहां कम गतिविधि होती है, जिससे सौर हवा बाहर निकल जाती है। दूसरी ओर, सनस्पॉट एक काला धब्बा है जो मजबूत चुंबकीय गतिविधि के कारण अस्थायी रूप से सूर्य पर दिखाई देता है।

क्या कोरोनल होल का प्रभाव पृथ्वी पर पड़ता है?

दरअसल, कोरोनल होल अप्रत्यक्ष रूप से पृथ्वी को प्रभावित कर सकते हैं, जिससे तूफान आ सकते हैं जो उपग्रहों और पावर ग्रिड जैसी प्रौद्योगिकियों को प्रभावित करते हैं।

कोरोनल छिद्र का क्या कारण है?

कोरोनल छिद्र सूर्य पर कमजोर चुंबकीय क्षेत्र के कारण होते हैं, जिससे सौर हवा बाहर निकल जाती है।

आशा करते है कि आप को यह लेख पसंद आया होगा और आपके बहुत सारे सवालों के जवाब भी मिल गए होगें यदि आपको और कुछ भी पूछना है तो कमेन्ट करके हमे अवश्य बताएं हम आपके सवालों का जवाब ज़रूर देंगे।

और इस वेबसाइट का नोटिफिकेशन आन कर लीजिये ताकि आपको सबसे पहले लेख व वेबस्टोरी की नोटिफिकेशन मिल सकें।

नोटिफिकेशन आन करने का तरीका: सीधे हाथ की तरफ नीचे देखिये लाल रंग की घंटी दिख रही होगी उसको सिर्फ एक बार टच कर दीजिए नोटिफिकेशन आन हो जाएंगी। आपको लिख कर भी देगा “subscribe to notifications”

धन्यवाद!

यदि आप ऐशिया मे रहते है, आपको हिंदी भाषा आती है और आप चाहते है कि हिंदी भाषा मे सच्ची नयूज़ देखना हो तो आप हमारा “यूट्यूब चैनल” सब्सक्राइब कर लीजिये।

हमारी लिंक यह है – Click Here

कुछ यूट्यूब की विडियोज़ के लिंक-

More Read

My name is Uzaif and I am 23 years old. I live in India. This website is related to entertainment, news, advice, current affairs etc. My aim is to give more entertainment and knowledge to my audience. This website was established by Uzaif Kevin in the year 2022.

Leave a Comment

रिलायंस जियो का न्यू ईयर 2024 प्लान देखकर उपभोक्ता मे खुशी का माहौल सूर्य पर विशाल छेद हमारी ओर गर्म सौर तरंग भेज रहा है नासा ने मंगल मिशन से तोड़ा संपर्क- विज्ञान फेल अंतरिक्ष मे Sagittarius A नामक ब्लैक होल तेज़ी से घूम रहा है- स्पेस टाइम से खिलवाड़ नासा के पास आया करोड़ों मील दूर अंतरिक्ष रहस्यों से लेजर लाइट मैसेज, जानिए क्या?